Chatterbox ‘मौनी-बाबा’

आप तो लिखते हुए भी भागते हैं Treadmill पर, प्रभु! मेरा तो बस मन...

Avatar of snigdha

Shiva and His So-called Drinking Problem

Does Shiva really drink? Or does He make you drunk in His Love?

Avatar of snigdha

सरल प्रेम की जटिल कहानी!

क्यूँ... वो बंधन में खुद को जकड़ने ही क्यूँ देती है? उसकी क्या गरज...

Avatar of snigdha

Has Shri Hari Abandoned Us?

"I worship Shivji every single day. I meditate. He won’t let me die, would...

Avatar of snigdha

…और ज़िन्दगी सुलझ गयी!

भीड़ से परे हट कर अब, भीतर खुद के झाँक लेती हूँ

Avatar of snigdha

पुरुष-प्रकृति और प्रेम

प्रेम में आप किसी को बांधते नहीं। यह वह बंधन है जो आपको हर...

Avatar of snigdha

Epitome of Bhakti and Manifestation of the Divine : A Personal Anecdote

Everything is Devi! The experiencer, the experience, the  thing that we experience. All Devi!...

Avatar of snigdha

खंडहर की नीरवता या साक्षी का मौन?

वीरानो की खूबसूरती हर किसी के मन में नहीं उतरती।

Avatar of snigdha

The Essence of Love

Absolute surrender is the hallmark of Bhakti

Avatar of snigdha

Moving Beyond Trauma Under His Wings

If She is the fair-skinned golden-hued Rajrajeshwari MahaTripur Sundari, then She Herself is the...

Avatar of snigdha

सहज समाधि

वह शुरू से अंत तक सफ़ेद ही रहा... बिलकुल माँ जैसा।

Avatar of snigdha

बुद्ध या आनंद

क्योंकि प्रेम संपूर्ण समर्पण नहीं तो प्रेम और कुछ भी नहीं।

Avatar of snigdha

सेवा परमो धर्मः

Service is the highest form of worship

Avatar of snigdha

वैराग्य

धधकती लाश के उपर रेंगते उस धूसर धूएँ में सच सबसे साफ़ नज़र आता...

Avatar of snigdha

मरो! हे जोगी, मरो!

क्योंकि योगी(भक्त) की मृत्यु तो शरीर में रहते हुए ही हो जाती है!

Avatar of snigdha

The community is here to help you with your spiritual discovery & progress. Be kind & truthful! Some quick tips:

Author Name

Author Email

Your question *