भजे व्रजैक् मण्डनम् , समस्त पाप खण्डनम् 

स्वभक्त चित्त रञ्जनम् , सैदव नन्द नन्दम् । 

सुपिच्छ गुच्छ मस्तकम् , सुनाद वेणु हस्तकम् 

अनङ्ग रंग सागरं , नमामि कृष्ण नागरम् ॥

व्रज भूमि के आभूषण , समस्त पापों का नाश करने वाले , अपने भक्तों के ह्रदय को आनंद से भरने वाले , नन्द के आनंदस्वरूप नन्दलाल का सैदव भजन करता हूं ।
जिनके मस्तक पर मनोहर मोर पंख के गुच्छे शोभायमान है , जिनके हाथों में सुरीली मुरली (वेणु ) है , तथा प्रेम तरंगो के सागर है , उन नट -नागर भगवान श्री कृष्ण को नमन करता हूं ।

🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷

मनोज गर्व मोचनं ,  विशाल लोल लोचनम्

विधुत गोप शोचनम्  , नमामि पद्म लोचनम् ।

करार विन्द भूधरं , स्मिताव लोक सुन्दरम्

महेन्द्र मान दारणं , नमामि कृष्ण वारणम् ॥

काम देव के गर्व का नाश करने वाले , बड़े-बड़े चंचल नेत्रों वाले , गोप -गोपिकाओं का शोक नष्ट करने वाले , कमल समान नेत्रों वाले को नमस्कार है ।
कमल समान हाथो से गोवर्धन पर्वत धारण करने वाले, मुस्कान युक्त , सुन्दर चित्तवन वाले आनंदस्वरूप , देवराज इन्द्र के गर्व का दमन करने वाले , गजराज समान भगवान श्री कृष्ण को नमस्कार है ।

🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷

कदम्बसून कुण्डलम् , सुचारू गण्ड मण्डलम्

व्रजांग नैक वल्लभं , नमामि कृष्ण दुर्लभम् ।

यशोदया समोदया सगोपया सनन्दया

युतम् सुखैक दायकं , नमामि गोप नायकम् ॥

कदम्ब के पुष्पों के कुण्डल धारण करने वाले , अत्यन्त सुन्दर गोल कपोलो वाले , गोपिकाओं (व्रजांगनाओं) के प्रियत्वम् , परम दुर्लभ (केवल भक्ति मार्ग से साध्य) भगवान श्री कृष्ण को नमस्कार है ।
माँ यशोदा , नन्द एवं समस्त गोप – गोपिकाओं को परमानंद देने वाले, केवल सुख और आनंद देने वाले , गोपनायक (ग्वालो के नायक) भगवान श्री कृष्ण को नमस्कार है ।

🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷

सैदव पाद पंकजं , मदीय मानसे निजं

दधान  मुक्त मालकम् , नमामि नन्द बालकम् ।

समस्त दोष शोषणम् , समस्त लोक पोषणम्

समस्त गोप मानसं , नमामि नन्द लालसम्  ।।

अपने कमल स्वरुप कोमल चरणार्विन्दो को सदा मेरे मन स्थापित करने वाले, सुन्दर घुंघराले बालो वाले नन्दलाल को नमन करता हूं ।
समस्त दोषो का नाश करने वाले , सम्पूर्ण सृष्टि का पालन करने वाले, समस्त गोप कुमारो के मन में आनंदस्वरूप रहने वाले , नंदराय जी की वात्सल्य लालसा के आधार , श्री कृष्ण को नमस्कार है ।
अपने कमल स्वरुप कोमल चरणार्विन्दो को सदा मेरे मन स्थापित करने वाले, सुन्दर घुंघराले बालो वाले नन्दलाल को नमन करता हूं ।
समस्त दोषो का नाश करने वाले , सम्पूर्ण सृष्टि का पालन करने वाले, समस्त गोप कुमारो के मन में आनंदस्वरूप रहने वाले , नंदराय जी की वात्सल्य लालसा के आधार , श्री कृष्ण को नमस्कार है ।

🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷

भुवो  भराव तारकम् , भवाब्धि-कर्ण धारकम्

यशोमति किशोरकम् , नमामि चित्तचोरकम् ।

दृगन्त कान्त भंगिनम् , सदा सदालिसंगीनम्

दिने दिने नवं नवं , नमामि नंदसम्भवम् ॥

भूमि भार उतारने वाले (असंख्य राक्षसो  और बुरी शक्तियों  नाश करने वाले), भवसागर से तारने वाले, यशोदा जी के किशोर , सबका चित्त (मन ) हरण करने वाले को नमन करता हूं।
अतिसुन्दर मनोहारी नेत्रों वाले , सर्वदा दिव्य सखियों  से सेवित , अपने भक्तो को नित्य नये-नये प्रतीत होने वाले , नन्दलाल को नमस्कार है ।

🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷

गुणाकरं सुखाकरं , कृपाकरं कृपापरं

सुरद्वि-षन्नि-कन्दनम् , नमामि गोपनन्दनम् ।

नवीन – गोप – नागरम् , नवीन- केलि – लम्पटं

नमामि मेघ सुन्दरम् , तडित्प्रभा – लसत्पटम् ॥

समस्त गुणों से परिपूर्ण सुख प्रदान करने वाले , कृपा करने वाले, कृपा करने में तत्पर (अपने भक्तो को सदैव सम्पूर्ण आनंदरस का दान देने में तत्पर ), देवताओ की समस्त बाधाओ का नाश करने वाले , गोप नन्दन को नमस्कार है ।
नवीन गोप सखा के साथ नित्य नये – नये खेल खेलने के लिए ललाईत  , घनश्याम अंग वाले ,  और चमकती बिजली के समान सुन्दर पिताम्बर धारण करने वाले , भगवान श्री कृष्ण को नमस्कार है ।

🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷

समस्त गोप नन्दनम् , हृदम् – बुजैक मोदनं

नामानि कुञ्ज मध्यगं , प्रसन्न भानु शोभनम् ।

निकाम – काम दायकं , दृगन्त चारु सायकं

रसाल वेणु गायकं , नमामि कुंजनायकम् ॥

समस्त गोप-गोपिकाओं को प्रसन्न करने वाले , हृदय कमल को प्रफुल्लित करने वाले , कुंज (वृंदावन के उपवन ) के मध्य विराजमान , आनन्द से भरपूर , सूर्य समान प्रकाश से शोभायमान , भगवान श्री कृष्ण को नमस्कार है ।
अपने भक्तो की सभी अभिलाषायें पूर्ण करने वाले , जिनकी एक झलक तीर के समान है , (अर्थात एक झलक मात्र से भक्तो के हृदय को प्रेम से घायल करने वाले ), मधुर मुरली सुनाने वाले , कुंज (वृन्दावन) के नायक , भगवान श्री कृष्ण को नमस्कार है ।

🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷

विदग्ध गोपिका मनो,  मनोज्ञ – तल्प शायिनम्

नमामि कुञ्ज कानने,  प्रवृद्ध वन्हि पायिनम् ।

किशोर कांति रंजितम्, दृअगंजनं सुशोभितं

गजेन्द्र मोक्ष कारिणं,  नमामि श्री विहारिणम् ॥

चतुर गोपिकाओं के मन की मनोरम – शैया पर शयन करने वाले , व्रज भक्तो के विरह की ताप अग्नि का पान करने वाले, भगवान श्री कृष्ण को नमस्कार है ।
अपनी किशोरावस्था की अद्भुत आभा बिखेरने वाले , जिनके नेत्र अंजन (काजल) से शोभायमान है, जो गजराज को मोक्ष प्रदान करने वाले है, तथा जो माता लक्ष्मी,  (श्री) के साथ विहार करने वाले है, ऐसे भगवान श्री कृष्ण को नमस्कार है ।

🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷

यदा तदा यथा तथा तथैव कृष्ण सत्कथा

मया सदैव गीयतां तथा कृपा विधीयताम् ।

प्रमाणिकाष्ट – कद्वयं , जापत्यधीत्य यः पुमान

भवेत्स नन्दनन्दने , भवे भवे सुभक्तिमान ॥

जहाँ कहीं भी, जैसी भी परिस्थिति में रहूँ , सदा भगवान श्री कृष्ण की आनंदरस कथाओं को गाता रहूँ, बस ऐसी कृपा बनी रहे ।
जो भक्त इस द्विअष्टक का रसपान करता  है , उस पर हर जन्म में भगवान श्री कृष्ण की भक्ति की कृपा बनी रहती है ।

🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷

Source

YouTube video

Pay Anything You Like

Amruta

Avatar of amruta
$

Total Amount: $0.00