shivang jauhari's Writings

सत्य और कर्म

सत्य अपने में स्थित है और प्रतीक्षा कर रहा है कि प्राणी उसे समझने...

Avatar of jauhari shivang