Snigdha's writings


2y ago

मरो! हे जोगी, मरो!

क्योंकि योगी(भक्त) की मृत्यु तो शरीर में रहते हुए ही हो जाती है!

2y ago

Human life and Emptiness

Surrounded by umpteen people, the sound of the silence inside remains beautiful, hauntingly beautiful.

2y ago

My Master

He is Eternity walking in a mortal coil. The entire cosmos whirls inside Him.

2y ago

From Love to Liberation (प्रेम से मोक्ष...

For who can ever Love except Love Himself! और प्रेम कर कौन सकता है...

2y ago

सहज समाधि

वह शुरू से अंत तक सफ़ेद ही रहा... बिलकुल माँ जैसा।

2y ago

वैराग्य

धधकती लाश के उपर रेंगते उस धूसर धूएँ में सच सबसे साफ़ नज़र आता...

2y ago

Love, Loss and Liberation

Mysteries of Universe wear the cloak of Pain.

2y ago

अंतर्द्वंद्व

यशोधरा ने चूड़ामणि उतार दिया और भिक्षुणी हो गयी।