Snigdha's Writings

एकांत और भक्ति

मुझपे करम सरकार तेरा, अरज तुझे कर दे मुझे, मुझसे ही रिहा |

बुद्ध या आनंद

क्योंकि प्रेम संपूर्ण समर्पण नहीं तो प्रेम और कुछ भी नहीं।

आइना : ख़ुद से ख़ुद की मुलाकात

खुद से बाँधी ज़ंजीरो और समाज की लादी उम्मीदों से परे हमारा असली स्वरुप...

देवी-रहस्य

From the mouth of the Premordal-Premival Divine Energy who manifests Herself as a Form.

ब्रह्म – ज्ञान

माया से महामाया की ओर।

Insanity as a Way to the Divine

Eveything good or bad is nothing but a stepping stones on the Path to...

सेवा परमो धर्मः

Service is the highest form of worship

Myth and Reality: Moving from the Face...

Mahakal is the culmination of three massive aspects of energies into One- Time, Darkness...

मरो! हे जोगी, मरो!

क्योंकि योगी(भक्त) की मृत्यु तो शरीर में रहते हुए ही हो जाती है!

Human life and Emptiness

Surrounded by umpteen people, the sound of the silence inside remains beautiful, hauntingly beautiful.

My Master

He is Eternity walking in a mortal coil. The entire cosmos whirls inside Him.

From Love to Liberation (प्रेम से मोक्ष...

For who can ever Love except Love Himself! और प्रेम कर कौन सकता है...

सहज समाधि

वह शुरू से अंत तक सफ़ेद ही रहा...बिलकुल माँ जैसा।

वैराग्य

धधकती लाश के उपर रेंगते उस धूसर धूएँ में सच सबसे साफ़ नज़र आता...

Love, Loss and Liberation

Mysteries of Universe wear the cloak of Pain.