Snigdha's Writings

तत्- त्वं- असि

भक्ति अपने चरम में अद्वैत हो जाती है | भक्त और भगवान उस चरम...

Avatar of snigdha
Vairagya and Love : An Anecdote and...

Vairagya isn’t really about caring about ourselves before others. It is realising that there...

Avatar of snigdha
खंडहर की नीरवता या साक्षी का मौन?

वीरानो की खूबसूरती हर किसी के मन में नहीं उतरती।

Avatar of snigdha
Moving Beyond Trauma Under His Wings

If She is the fair-skinned golden-hued Rajrajeshwari MahaTripur Sundari, then She Herself is the...

Avatar of snigdha
त्रिशूल-भेद : समय के सीने में दफ़्न...

कैसी अद्भुत शक्ति है शिव! नंगे शरीर में भस्म की चादर ओढ कर ज़िंदगी...

Avatar of snigdha
Ramu : The Furry Spartan Who Still...

There, inside the sanctum sanctorum (garbhgrih), at the feet of Ma kali, slept a...

Avatar of snigdha
गुरु : एक परम चेतना

गुरु में ईश्वर की पूर्णता होती है। वरना वो गुरु नहीं होते।

Avatar of snigdha
The Essence of Love

Absolute surrender is the hallmark of Bhakti

Avatar of snigdha
जीवन, मृत्यु और “माँ”

भीतर की अनंतता ही एक मात्र सत्य है| जीवन और मृत्यु दोनो भ्रम है|

Avatar of snigdha
Darkness, Death and Devi

That is the power of Her name. When S(h)e protects, no amount of suffering...

Avatar of snigdha
Gain and Loss on the Spiritual Path

The quest for Love changes us. There is no seeker among those who search...

Avatar of snigdha
एकांत और भक्ति

मुझपे करम सरकार तेरा, अरज तुझे कर दे मुझे, मुझसे ही रिहा |

Avatar of snigdha
बुद्ध या आनंद

क्योंकि प्रेम संपूर्ण समर्पण नहीं तो प्रेम और कुछ भी नहीं।

Avatar of snigdha
आइना : ख़ुद से ख़ुद की मुलाकात

खुद से बाँधी ज़ंजीरो और समाज की लादी उम्मीदों से परे हमारा असली स्वरुप...

Avatar of snigdha
देवी-रहस्य

From the mouth of the Premordal-Premival Divine Energy who manifests Herself as a Form.

Avatar of snigdha