Day 1:

Mahavidya: Kali
Essence: Courage and Fearlessness

Courage is a rarest of rare quality capable of transforming an ordinary human into Devi Herself. When we sincerely walk on the Path, a strange fearlessness starts to emanate from within. This is a sure shot sign of spiritual progress. This courage, however, will be free of pride and ego. A sense of responsibility towards every sentient being is the best friend of true Courage. They can never be separated. Kali reminds me to be utterly fearless no matter what life throws at me because She is Sarva Raksha Swaroopini. When the One, from whom everything has been manifested, that Mother Divine is protecting us, what else is there in the millions of multiverse that could possibly harm us!

सब उनसे हैं। सब वही हैं। हर जीव। हर जंतु। हर मनुष्य। खुद की माँ से डर कैसा! पर इसका मतलब यह नहीं हैं की शेर के मुँह में घुस जाएंगे! Predator की मूल प्रकृति का ध्यान रखना common sense है। बात बस इतनी है की हम बेख़ौफ़ रहें। सावधान लेकिन बेख़ौफ़! Snakes, scorpions, life and death. She is the One dwelling in every single thing. ! The Sadhak who has discovered the courage to face what may come, is absolutely fearless in the pursuit of his or her truth and is responsible towards others has awaken Kali inside him or her. To me, he or she is a Kali Siddh.

Mahavidyas from the eyes of a seeker 2साधना स्वाधीनता का मार्ग है। तंत्र आध्यात्मिक क्रांतिकारियों की प्रकृति। काली साधक का वह भाव है जो उसके डर की सारी हदें तोड़ती है। परिवर्तन हमेशा कष्ट देता है। इसलिए काली का स्वरुप उग्र बताया गया है। करुणामयी काली तुमपर तब करुणा बिल्कुल नहीं दिखाएगी जब बात तुम्हारे मुक्ति की हो। अपने आप से खुद की मुक्ति ही परम मुक्ति है! और काली इस बात पर तुम्हे दया नहीं दिखाएगी। वो उग्रता से तुम्हारी निकृष्टता को काटेगी। तुम रोओगे, बिलखोगे, गिड़गिड़ाकर दया की भीख माँगोगे। पर काली तब तक नहीं मानेगी जब तक वो तुम्हे परम मुक्त कर स्वयं शिव ना बना दे! यही काली की करुणा और उसके प्रेम की हद है तुम्हारे लिए।

There is another important aspect of Kali which will make more sense when we realise the 3rd Mahavidya, Tripur Sundari. It will be dealt in detail on Day 3 with beloved Lalita. 🙂

ॐ क्रीं काल्यै च विद्महे, महादेव्याये धीमही, तन्नो शक्तय प्रचोदयात्!

Pay Anything You Like

Snigdha

Avatar of snigdha
$

Total Amount: $0.00