Satyam's writings


“जगजननी”

'माँ आ ही गयी आखिर'

Avatar of satyam tiwari

“save Food”

" इतना ही लो थाली में, व्यर्थ न जाये नाली में"

Avatar of satyam tiwari

“किशन तुम निष्ठुर हो”

'इस विशाल प्रेम सागर को मैं अकेले कैसे पोषित करूँगी...??

Avatar of satyam tiwari

“ज़िदगी रोलर कोस्टर”..(2)

"कॉन्क्रीट ,पत्थर के ये भेड़िये मुझे खा जाने को आतुर थे"

Avatar of satyam tiwari

“ज़िदगी रोलर कोस्टर”

'मेरी प्रकृति, " प्रकृति प्रेमी" है ,संकीर्णता में मेरा दम घुटता है'

Avatar of satyam tiwari

ये तो एक स्वप्न था

बेवा हुई गलियां चीखती है, और सन्नाटा अट्टहास करता है

Avatar of satyam tiwari

“पेड़ और टहनी”

दुर्घटना ,पेड़ और टहनी की गति

Avatar of satyam tiwari

“थापिया न जाये कीता न होय, आपो-आप...

"डोर पकड़े है सिरा मिलता नही,फ़लसफी को बहस में ख़ुदा मिलता नही"

Avatar of satyam tiwari

“सफ़र”

'बस ,रास्ते के पेड़, इमारतों को तेजी से पीछे छोड़ते हुए निकल गयी'

Avatar of satyam tiwari

“तू भी चले, मैं भी चलूँ”

'समर्पित सभी प्रेमियों के लिए', समर्पित उस परम् प्रेयसी के लिए☺

Avatar of satyam tiwari

“खंडहर”

' जैसे मेरा वर्षो से नाता हो इनसे'

Avatar of satyam tiwari

“प्रेम”

'प्रेम त्याग की धूनी में रमता है'

Avatar of satyam tiwari

“Thankyou”

ये शब्द शायद कम है ,इस उपकार के लिए😊

Avatar of satyam tiwari

“राम का गुणगान करिए”

एक भजन ,रामधुन गाने का प्रयास

Avatar of satyam tiwari

“how Meditation Take Changes in You”

it was dilemma for me ,what should I do?

Avatar of satyam tiwari

The community is here to help you with your spiritual discovery & progress. Be kind & truthful! Some pointers to get good answers:

Author Name

Author Email

Your question *