1 year ago

फ़न और फ़नकार

फ़न और फ़नकार में अंतिम में फ़न ही बचता है।

2y ago

तूँ तूँ करता तूँ भया

आप का होना बस कितनो के लिए राहत है प्रभू🌺🌺❤️❤️🙇

2y ago

मेरे तो गिरिधर गोपाल

उम्मीद की किरण

2y ago

औरत-औरत

तुम्हे केवल स्त्री की कोमल देह दिखी, उसके भीतर का कोमल हृदय नहीं दिखा

2y ago

रिश्ते जो बहुत कुछ सिखा के गए

' मैं इस मायने में बहुत भाग्यशाली रहा हूँ, मुझे बहुत प्यार करने वाली...

2y ago

करुणा

उनका रोना बताता है कि औरत क्यों देवी का रूप कही जातीं हैं।

2y ago

मैं सत्यम : किचन से 😃

ये अन्नक्षेत्र मेरा लीलाक्षेत्र है

2y ago

भूल भुलैया

हर किसी के जीवन की भूल-भुलैया

2y ago

मेरे हनुमान

हनुमान साधना🌺🌺

2y ago

नदी

' मैं नदी था या नदी मुझ में थी'

2y ago

परम् आलसी😁😁

आलस नगर का आलसी, एक दिन आलस भवन में।

2y ago

परम् आलसी😁

आलसी होते नहीं ,आलसी अवतार लेते हैं😁

2y ago

ANGER BOM

क्रोध से हुआ विस्फ़ोट अपने आस-पास के साथ सबसे ज्यादा हमें आहत करता है

2y ago

😁😁आनंद की खोज😁😁(प्रशंसा और निंदा)

बेचारा इंसान आदिकाल से आनंद का खोजी है