Satyam's writings


“एकांत और अकेलापन”

एकांत में हम घुलते हैं जबकि अकेलापन हमे घोलता है

Avatar of satyam tiwari

पेड़ पे बैठा हाथी

" क्या सोच रहा है ये आखिर?

Avatar of satyam tiwari

कबीर

कबीर की नज़र

Avatar of satyam tiwari

‘कबीर’

कबीर की नज़र

Avatar of satyam tiwari

यशोधरा

बुद्ध ने संसार को रौशन किया ,क्या यशोधरा की अंधियारी कोठरी जगमग कर पाए?

Avatar of satyam tiwari

गुरु वही जिसका गुरुत्व हो

क्या कहूँ? क्या लिखूं? न शब्द हैं ,न ही योग्यता।

Avatar of satyam tiwari

‘शरण रखो हे नाथ ! ‘

'शरण रखो हे नाथ ! , कातर मन ,चकोर नयन ढूंढे चंदा सी छवि...

Avatar of satyam tiwari

खण्डहर भाग-3

स्कूल और मीठी याद

Avatar of satyam tiwari

खंडहर …(भाग -2)

'किताब और रहस्यमयी संसार'

Avatar of satyam tiwari

25 के हो गए हो…

अब क्या करूँ, उम्र मेरे हाथ मे थोड़ी है जो उसे भी अपने साथ...

Avatar of satyam tiwari

“वेश्या”

'रात के अंधेरे में पर्दा डाल के आते हो,मेरे बदन का पर्दा उठाते हो,पर्दा...

Avatar of satyam tiwari

“अंधेरे में”

'सिर से सीने में कभी ,पेट से पाँव में कभी ,एक जगह हो तो...

Avatar of satyam tiwari

“जगजननी”

'माँ, तुम आ गयीं😍😍🌼🌼🌺🌺

Avatar of satyam tiwari

“जगजननी”

'माँ आ ही गयी आखिर'

Avatar of satyam tiwari

“save Food”

" इतना ही लो थाली में, व्यर्थ न जाये नाली में"

Avatar of satyam tiwari

The community is here to help you with your spiritual discovery & progress. Be kind & truthful! Some quick tips:

Author Name

Author Email

Your question *