3y ago

“अंधेरे में”

'सिर से सीने में कभी ,पेट से पाँव में कभी ,एक जगह हो तो...

3y ago

“जगजननी”

'माँ, तुम आ गयीं😍😍🌼🌼🌺🌺

3y ago

“जगजननी”

'माँ🌺👏, आ ही गयीं आखिर'

3y ago

“save Food”

" इतना ही लो थाली में, व्यर्थ न जाये नाली में"

3y ago

“किशन तुम निष्ठुर हो”

'इस विशाल प्रेम सागर को मैं अकेले कैसे पोषित करूँगी...??

3y ago

“ज़िदगी रोलर कोस्टर”..(2)

"कॉन्क्रीट ,पत्थर के ये भेड़िये मुझे खा जाने को आतुर थे"

3y ago

“ज़िदगी रोलर कोस्टर”

'मेरी प्रकृति, " प्रकृति प्रेमी" है ,संकीर्णता में मेरा दम घुटता है'

3y ago

ये तो एक स्वप्न था

बेवा हुई गलियां चीखती है, और सन्नाटा अट्टहास करता है

3y ago

“पेड़ और टहनी”

दुर्घटना ,पेड़ और टहनी की गति

3y ago

“थापिया न जाये कीता न होय, आपो-आप...

"डोर पकड़े है सिरा मिलता नही,फ़लसफी को बहस में ख़ुदा मिलता नही"

3y ago

“सफ़र”

'बस ,रास्ते के पेड़, इमारतों को तेजी से पीछे छोड़ते हुए निकल गयी'

3y ago

“तू भी चले, मैं भी चलूँ”

'समर्पित सभी प्रेमियों के लिए', समर्पित उस परम् प्रेयसी के लिए☺

3y ago

“खंडहर”

' जैसे मेरा वर्षो से नाता हो इनसे'

3y ago

“प्रेम”

'प्रेम त्याग की धूनी में रमता है'

4y ago

“Thankyou”

ये शब्द शायद कम है ,इस उपकार के लिए😊