इतना तो करना स्वामी,
जब प्राण तन से निकले
गोविन्द नाम लेकर,
फिर प्राण तन से निकले ॥

🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷

श्री गंगा जी का तट हो,
यमुना का वंशीवट हो,
मेरा सांवरा निकट हो,
जब प्राण तन से निकले,
इतना तों करना स्वामी ॥

🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷

पीताम्बरी कसी हो,
छवि मन में यह बसी हो,
होठों पे कुछ हसी हो,
जब प्राण तन से निकले,
इतना तों करना स्वामी ॥

🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷

श्री वृन्दावन का स्थल हो,
मेरे मुख में तुलसी दल हो,
विष्णु चरण का जल हो,
जब प्राण तन से निकले,
इतना तों करना स्वामी ॥

🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷

जब कंठ प्राण आवे,
कोई रोग ना सतावे,
यम दर्शना दिखावे,
जब प्राण तन से निकले,
इतना तो करना स्वामी ॥

🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷

उस वक़्त जल्दी आना
नहीं श्याम भूल जाना
राधा को साथ लाना
जब प्राण तन से निकले
इतना तों करना स्वामी ॥

🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷

सुधि होवे नाही तन की,
तैयारी हो गमन की,
लकड़ी हो ब्रज के वन की,
जब प्राण तन से निकले,
इतना तो करना स्वामी ॥

🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷

एक भक्त की है अर्जी,
खुदगर्ज की है गरजी,
आगे तुम्हारी मर्जी,
जब प्राण तन से निकले,
इतना तो करना स्वामी ॥

🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷

ये नेक सी अरज है,
मानो तो क्या हरज है,
कुछ आप का फरज है,
जब प्राण तन से निकले,
इतना तो करना स्वामी ॥

🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷

Source

YouTube video

Pay Anything You Like

Amruta

Avatar of amruta
$

Total Amount: $0.00