सफलता एक शब्द ही नहीं बल्कि वास्तव में यह तो व्यक्ति का परिचय है क्योंकि यहां परिचय कई त्याग पूर्ण समर्पण ,दृढ़ संकल्प, निडरता और पूर्ण निष्ठा इत्यादि की परिभाषा है।कई व्यक्ति सफलता के मार्ग में दो कदम बढ़ाती पीछे मुड़ जाते हैं और कुछ तो डर के कारण शुरुआत ही नहीं करते। अगर आप अपनी पहचान बनाना चाहते हो तो अपने आप में कभी हार ना मानना इस बीच को अपने अंदर बोना  होगा और सिर्फ अपने लक्ष्य के बारे में सोचते हुए अपने कदम को आगे बढ़ाना होगा चाहे परिस्थिति आप के अनुरूप हो या नहीं आपको दृढ़ संकल्प साथ रहना होगा। कभी हार नहीं मानना चाहिए इसका हमें सर्वश्रेष्ठ उदाहरण चीटियों से सीखने मिलता है क्योंकि चीटियां अपने शरीर के भार से 10 गुना तक ज्यादा वजन उठाकर  ऊंची खड़ी दीवारों पर चढ़ती है लेकिन बार-बार गिरती है और फिर उठ कर चढ़ती है और अंततः वह पूर्ण रूप से अपने लक्ष्य को प्राप्त कर लेते अर्थात चढ़ जाती है। यहां पर चीटी ने “कभी हार ना मानना” इस मंत्र के अनुरूप कार्य किया और सफल हुई। इससे हमें सीख मिलती है कि हमें कोशिश करते रहना चाहिए और तब तक करते रहना चाहिए जब तक लक्ष्य की प्राप्ति ना हो।

Pay Anything You Like

Aditya

Avatar of aditya
$

Total Amount: $0.00