कवि न  होऊँ न ही वचन प्रवीनू, सकल कला सब मिथ्या हीनू। कवित विवेक एक नहि मोरे ,सत्य कहउँ जिमि कागद कोरे”

लिखने को सोच रहा था कई दिनों से , पर जब लिखना गुरु कृपा पर हो तो मस्तिष्क की सारी मेधा शून्य हो जाती है। पर ये मेधा जी का अनुरोध भी था सब मेम्बर्स से कि कुछ न कुछ लिखा जाए। तो इसलिए हम भी थोड़ा हिम्मत कर ही लिए कि चलो जो है ,अपर्ण करना ही है । स्वामी( श्री हरि  ) के चरणों मे  केतकी, कमल , चम्पा के पुष्पों के साथ कभी-कभी  धतूरे के फूलों को भी चढ़ाया जाता है तो ख़ुद को धतूरा ही मानते हुए मेरे शब्द , भाव और बुद्धि उनके श्री चरणों मे समर्पित।

गुरु का मतलब कुछ सालों पहले मेरे लिए शून्य था। क्योंकि गुरु तत्व का अंकुरण मेरे हृदय में नही हुआ था। न ही मैं देवी माँ का भक्त था, हाँ! भोलेनाथ से हमेशा नाता रहा ,बीच-बीच मे कुछ दिनों के लिए छूटा लेकिन प्रभू ने फिर खींच लिया अपने पास।

मई,2019 की बात है । मैं ‘देवों के देव महादेव’ सीरियल देेेख रहा था, एपिसोड सती माता के देेह त्याग का चल रहा था। इसके कुछ महीनों पहले से मुझमे शिव धुन का चस्का जोरों पर था। भक्ति ,साधना , कुछ विशेष नही थी केवल रुद्राष्टकम दिन भर सुनता था। वो एपिसोड का मेरे ऊपर बहुत ज्यादा असर हुआ ,मेरे आँसू ही न रुके बहुत देर तक। मुझे नही पता ऐसा क्यों हो रहा था। 

ख़ैर,

जुलाई में विपश्यना से आने के बाद मुझमे थोड़ा परिवर्तन तो हो ही गया था लेकिन मैं कच्चा फल था। फीका और कठोर ,इसी बीच स्वामी जी के संपर्क में आये, मन के सारे मैल धुलने लगे , आंसू के रास्ते सारे ही मन की मलिनता बाहर आने लगी ,एक तड़प उठी ,एक कमी सी लगने लगी या ये कहें कि एक गुरुत्व का बल था जो मुझे बस खींचे जाय और अभी भी बस खींच रहा है| कई महीनों तक स्वामी जी के प्रवचन सुनता रहा , एक दिन मुझे लगा की ये इतने बड़े महान विभूति हैं मुझ जैसे आम ,साधारण के लिए उपलब्ध नही होंगे , मेरी क्या औकात की मैं अपना कोई भी संबंध इनसे जोड़ूँ, बच्चा अगर  चाँद लेने की ज़िद करे तो सब उसकी इस धृष्टता पर हंसते हैं कोई उसकी बात को गंभीरता से नही लेता ,मेरी हालत कुछ इसी प्रकार थी। मैं  किसी से क्या बात करूँ इस बारे में ,क्या कहूँ? कैसे मदद मांगू ? यही सब सोच-सोच के मेरा दिमाग थक गया और मैं बिस्तर में औंधे मुंह सो गया | जब सो के उठा तो देखा मीरा ओम के नाम से कोई कमेंट पड़ा हुआ है और वो भी स्वामी जी के प्रवचन में, मैं इतना techno friendly नहीं हूं,  इसलिए मुझे नही पता था कि स्वामी जी यहां लिखते भी हैं और साथ ही साथ ब्लैक लोटस एप्प में  जबाब भी देते हैं | मीरा दीदी ने बड़े दुलार से मेरे बारे में पूछा और फिर सारी चीजें अरेंज करवाईं।जिससे मैं स्वामी परिवार और उनके उपदेशों के थोड़ा और करीब आ सकूँ| ये तो रही मेरी पहली प्रत्यक्ष अनुभूति की कैसे आपके सच्चे पुकार और व्यथा में वो आपके पास तुरंत आ जाते हैं या किसी को भेज देते हैं | फिर कई तरह से मेरी मदद समय- समय पर होती रही , जब-जब मुझे मानसिक चुनौती का सामना करना पड़ा, गुरु तत्व मददगार साबित हुआ|

कुछ दिनों पहले की बात है , पता नही मुझे ये  अनुभव यहां लिखना चाहिए या नहीं लेकिन अब बात मन मे आ ही गयी  तो ज़िक्र  कर देना उचित होगा | मुझे एक छोटा सा अनुष्ठान करना था 40 दिनों का उसके लिये कुछ टिप्स थे जो मुझे जानना जरूरी था | देवी भागवतम कोर्स में वो सारी बातें  प्रभू जी ने ब  दी हुई हैं, लेकिन मेरे पास देवी भागवतम का सब्सक्रिप्शन था नही, मैंने  मीरा दीदी से बात बताई  तो उन्होंने ने कहा कि टीम से बात कर लो देख लो शायद कुछ हो जाय, पूर्णिमा का दिन कुछ दिनों बाद था इसलिए उसके पहले मुझे जानकारी जानना जरुरी था। मैने टीम को मेल किया और कृपा से मेरी मदद उपलब्ध हो गयी आप को विश्वास नही होगा मुझे एक दिन के लिए देवी भागवतम की फ्री एक्सेस मिल गयी , लेकिन मैंने जो वादा किया था टीम से की मुझे जो प्रवचन देखना है मैं  केवल वही देखूंगा| और मैने वही किया ,बीच में लगा कि चलो देख लेते हैं सारे वीडियो क्या जाता है, लेकिन मन नही माना | ये कुछ एक ऐसे अनुभव थे ,जो न मेरे विश्वास को मजबूत आधार देते हैं बल्कि एक संदेश देते हैं कि ईमानदारी से आप कुछ भी करने की ठान लो तो पता नही कहां से प्रकृति आप को संसाधन उपलब्ध करा देती है|
अनुष्ठान के समय मे ही मुझे वैक्सीन लगी उसके असर से 104 बुखार आ गया , अब अगर बुखार लेके बैठे तो इतने दिन की मेहनत बेकार जाती है और बुखार के कारण बैठना मुश्किल हो रहा था| इस बार फिर से प्रार्थना ही काम आयी और तपते शरीर से मैने प्रतिदिन की पूजा कम्प्लीट की और वापस बिस्तर में सो गया|
मुझे नही लगता इससे ज्यादा मुझे कुछ और चाहिए कभी-कभी लगता है कि मेरे कर्म इतने अच्छे तो नही हैं कि मैं इतनी जल्दी स्वामी जी के पास पहुच जाऊं लेकिन मुझे उनकी ही कृपा पर पूरा भरोसा है कि आज नही तो कल ” अपना टाइम आएगा’😊

गुरु पूर्णिमा की अग्रिम बधाइयां सभी परिवार के सदस्यों को🌼🌼🌺🌺
ओम स्वामी नमो नमः❤️❤️⚛️⚛️🕉️👏👏👏

धन्यवाद 😊

Pay Anything You Like

Satyam Tiwari

Avatar of satyam tiwari
$

Total Amount: $0.00