Jai Shri Hari!

I’m here with my poem. 
Sometimes we want others to feel what we feel. Isn’t it a kind of selfish act?

Why should he or she feel so differently?

Why not us?

We should try and feel what others feel. What they want from us.

Less expectations will lead to happiness…

When I wrote this poem I was thinking: How easily we say: “Mere Jagah tum hote to pata chalta.” What about: “Uski jagah mai hota?”

मेरी आंखों से देखो

मेरी आंखों से खुद को देखो,
तुम अपने में कितने खास हो।
शायद अपनी कीमत को नहीं जानते,
मेरी आंखें ले लो, तो शायद अहसास हो।

एक अजीब से पहेली हो तुम,
तुम खुद से खुद को ना समझ पाओगे।
मेरी नज़र से एक बार देखो,
अपनी पहेली को तुम सुलझा पाओगे।

कैसा हूं मैं स्वार्थी,
अपनी नज़र से तुम्हें देखने को बोल रहा हूं।
ये भी ना सोचा कि तुम तो प्रतीक्षा में नहीं कि,
खुद को तुम्हारी नज़र से देखूं मैं।

I asked a question in Q&A section. 

Hoping for answer.

Jai Shri Hari!

Pay Anything You Like

Abhishek Sharma

Avatar of abhishek sharma
$

Total Amount: $0.00