ये बोलियाँ, कीर्तन में जब गाएँ, तब एक लीड करले, इटैलिक्स  वाले बोल बाकि सब साथ में बोल लें।

कोरस कैसे भी गा लें (१) सभी लाइने साथ में मिलकर (२) या एक-एक लाइन करके – एक लाइन लीड, फिर एक लाइन सभी।

आयो जी, आयो जी, शालामुँ की खिड़कियाँ हम अपनी तालियों की गरज से खड़काएँ जी।

*********

Detail from svetambara jain teacher giving instruction 1750-60 rajasthan
Detail from svetambara jain teacher giving instruction 1750-60 rajasthan

 

निकालो प्रभात फेरी,

क्यों जी ?

जागो सारी दी सारी,

छेती की ?

आज मॉर्निंग गुड है,

व्हाई जी ?

धुंध मिटी है,

तो जी ?

चाणर होया,

कैसे ?

गुरु पूर्णिमा आयी!

अच्छा जी !

ओए वाह जी ! वाह जी ! वाह जी ! 

(कोरस)

पाओ गल्ली मोहल्ले शोर !

मैंने नचके गुरु मनौना ! 

बजाओ ताल मंजीरा ढोल !

मैंने गुरु आभारी होना !

मेरे गुरु बड़े अनमोल !

ऐसा दूजा ना कोई औना !

बोलो खुशियों वाले बोल !

मैंने नचके गुरु मनौना !

एक संत चालिसी,

हाँ जी !

शालामुँ के ज्ञानी,

हाँ जी !

पंजाब दे पुत्तर,

आहो जी !

बोले सो निहाल जी,

सस्रीकाल जी !

करें जय माता दी,

जय माता दी !

नाम ॐ स्वामी!

ॐ स्वामी !

बोलो राधे !राधे !राधे !

(कोरस)

पाओ गल्ली मोहल्ला शोर !

मैंने नचके गुरु मनौना ! 

बनाओ शीरा चाशनी घोल !

मैंने गुरु के दर ले जाना !

गुरु के दर्शन बड़े अनमोल !

ऐसा संत ना कोई होना !

बोलो खुशियों वाले बोल !

मैंने नचके गुरु मनौना !

कथाओं के प्रेमी,

कौंते !

वो साधक हिमाली,

बद्री ! 

सजग अंतर्यामी,

ब्राह्मी !

म्नत्रो के मंत्री,

त्रिपुरी !

हठ योगी तंत्री,

सिद्ध जी !

कंप्यूटर महारथी,

बग नहीं ! 

कोई बग नहीं ! बग नहीं ! बग नहीं !

(कोरस)

पाओ गल्ली मोहल्ला शोर !

मैंने नचके गुरु मनौना ! 

लिखो कहानी रोचक दो !

मैंने गुरु के मज़े लगाना !

गुरु के पत्र बड़े अनमोल !

ऐसा सुन्दर ना कोई लिखिया !

बोलो खुशियों वाले बोल !

मैंने नचके गुरु मनौना !

वो सच के सारथी,

सच्ची !

वो जेंटलमैन जी,

साब जी !

सबसे पोलाइट जी,

ऐक्स -क्युज़मी !

झेंपे जस्टिन ट्रूडो भी !

आउची !

की मैं झूठ बोलेया ?

कोई ना !

की मैं कुफ़्र तोलेया ?

कोई ना !

ओए कोई ना ! कोई ना ! कोई ना !   

(कोरस)

पाओ गल्ली मोहल्ला शोर !

मैंने नचके गुरु मनौना ! 

बनाओ ना गल्लाँ गोल-मटोल !

मैंने गुरु के जैसा बनना !

गुरु के बोल बड़े अनमोल !

ऐसा सच ना कोई बोलेया !

बोलो खुशियों वाले बोल !

मैंने नचके गुरु मनौना !

गीता में लिखेया,

सुनो जी !

सच आपि ना जानी,

ना जी,

गुरु के पास जाईं,

हाँ जी,

विनम्र सेवा करीं,

हाँ जी,

सच गुरु ही देवे,

हाँ जी,

सच गुरु ने देखेया!

ॐ तत सत जी !

ॐ शांति ! शांति ! शांति ! 

(कोरस)

पाओ गल्ली मोहल्ला शोर !

मैंने नचके गुरु मनौना ! 

हो निर्मल बिन कोई बोझ !

मैंने गुरु की सेवा करना !

गुरु के अनुभव हैं अनमोल !

ऐसे सच ना कोई देखेया !

बोलो खुशियों वाले बोल !

मैंने नचके गुरु मनौना !

गुरु नानक बोलेया,

सुनो जी !

गुरु बानी शब्द है,

हाँ जी !

गुरु बानी ज्ञान है,

हाँ जी !

गुरु बानी में सब है,

हाँ जी !

गुरु हर, हरी, ब्रह्म हैं,

हाँ जी !

गुरु ही माँ पारवती हैं,

जय माता दी ! 

ॐ शांति ! शांति ! शांति ! 

(कोरस)

पाओ गल्ली मोहल्ला शोर !

मैंने नचके गुरु मनौना ! 

लगाओ आसन अब बंद करो फ़ोन !

मैंने गुरु की बानी सुनना !

गुरबानी में ना कोई झोल !

मैंने सुन सुन के ही तरना !

बोलो खुशियों वाले बोल !

मैंने नचके गुरु मनौना !

– वर्तिका

*********

Justin trudeau
Justin trudeau meme eh! 🙂

रेफरेंस:-

  1. प्रभात फ़ेरी – (पंजाबी) सुबह सुबह मोहल्लों में निकलने वाली कीर्तन मंडली
  2. छेती – (पंजाबी) जल्दी
  3. व्हाई – (अंग्रेज़ी) Why
  4. चाणर – (पंजाबी) उजाला
  5. मनौना – (पंजाबी) सेलिब्रेट करना, न की रूसे को मनाना 😛
  6. औना – (पंजाबी) आना
  7. चालिसी – चालिस से पचास की उम्र के बीच के
  8. झेंप – झेंपना, शर्माना
  9. जस्टिन ट्रूडो – Justin Trudeau Ji 😎
  10. आउची – (अंग्रेज़ी) Ouchie – my 3 year old’s word for “ouch”! 😂
  11. “गीता में लिखेया” का रेफरेंस – अध्याय 4 छंद 34 : तद्विद्धि प्रणिपातेन परिप्रश्नेन सेवया |उपदेक्ष्यन्ति ते ज्ञानं ज्ञानिनस्तत्त्वदर्शिन: ||
  12. “गुरू नानक बोलेया” का रेफरेंस – (गुरु नानक जी के ये शब्द उनकी रचित “जपजी साहिब” में हैं जिनसे “गुरु ग्रन्थ साहिब” जी की शुरुआत होती है)
    गुरमुखि नादं गुरमुखि वेदं गुरमुखि रहिआ समाई ॥गुरु ईसरु गुरु गोरखु बरमा गुरु पारबती माई ॥

(इमेज सोर्स:- इंस्टाग्राम लिंक इमेज में है )