Oh, Revered Swamiji, please accept the following few lines at your lotus feet. It came out directly from dil se as usual. Hope that, I might have succeeded to some extent in conveying my inner feeling and samarpan along with other devotees / disciples. It is not superficial rather filled with deep emotion and a sense of being taken care. Advance apologies for any unintentional errors / mistakes or meanings which I did not intend.

Maaf kar dena oh Swamiji, saaf na kar dena 😉. 

ओ स्वामीजी खफा न होना और न ही होना नाराज़,
हम भक्त हैं आपके ओ भगवन लगाए आपके चरणों की आस;
मन की करते हैं आपको हम दिन रात परेशान,
पर हम निर्बोधों पर कृपा दृस्टि बनाये रखना हे दयावान.

आप के सिवाय कोई दूजा न है राह दिखने वाला,
आप ही के स्मरण से तोह मुख में जाता है निवाला;
मन के हमारे माँ बाप और अपनों ने हमें पाला,
पर जीवन में हमारे आप ही ने तोह लाया उजाला.

जिंदगी क्या है – हमें न पता हे भगवन,
पर आप ही के चरणों में किया है पूर्ण समर्पण;
आप ही हो हमारे पालन कर्ता,
माता भी आप हो और आप ही पिता.

कैसे बयाँ करें दिल की दास्ताँ,
विरानो से गूंजती हैं आप ही की पहचान;
चमत्कार कहें या उपरवाले की दया,
जो हमें मिला है आप का शीतल साया.

जब भी हमें सताये कोई भी संकट,
आप ही का चेहरा आंखों में होती है प्रकट;
बेवक्त याद करते हैं आपको – देते हैं बहुत कष्ट,
पर आप ही बताओ प्रभु क्या करें हम भक्त.

बस यही गुजारिश है हम दास जनोंकी,
इसी भांति बनाये रखें अपनी कृपा की नज़र;
बेखौफ जियेंगे हम और हँसते हँसते दम तोड़ें,
विलीन हो जाएं बस आप ही की डगर.

On behalf of your Charnashrit all devotees. Jai Shri Hari…

Pay Anything You Like

Biswa Nanda

Avatar of biswa nanda
$

Total Amount: $0.00