नंदू पढ़ाई में कमजोर होने के कारण उसकी मम्मी ने उसे जबरदस्ती ट्युशन लगवाई । नंदू ट्युशन जाना नहिं चाहता था । उसे स्कूल के बाद extra curricular class attend करनी थी । उसकी मम्मी ने उसे मनाने के लिए उसकी फेवरेट Green Atlas Goldline Cycle खरीद ली । अपनी फेवरेट साईकल मिलने की खुशी में नंदू फाईनली ट्युशन जाने के लिए तैय्यार हुआ ।
उसका ट्युशन का पहला दिन था । उसने अपनी साईकल extra pay करके Safe Zone में पार्क की । क्लासरूम में enter करके अपनी आदत से लास्ट बेंच पर जाकर बैठा । सब स्टुडंट्स गप्पे मारने में बिझी थे । नंदू शांती से सब देख रहा था । अचानक क्लास में pin drop silence फैल गया । नंदू ने दरवाजे कि तरफ देखा तो पैर में स्लिपर पहना और हाथ में बुक लिया एक व्यक्ती अंदर आ रहा था । उसका बड़े भिंग वाला चष्मा और उसमें से दिख रहि उसकी बडि बडि आंखों ने नंदू के होश उडा दिये । नंदू ने हल्की आवाज में बाजू वाले लडके से पूछा , “ कौन है ? ” उसको उत्तर मिला “ बटूक महाराज !! ”
बटूक महाराज ?? What Maharaj is doing here ?🤔 उसने नेक्स्ट question पूछा । बाजूवाला लडका बोला , “Wait and Watch !!”
नंदू का टेंशन वाला face देखकर बटूक महाराज asked to नंदू , “What is that ?” नंदू ने गडबडाहट में answer किया , “That is my साईकल Key ”अपनी बडि आंखें और भी बडि करके बटूक महाराज बोले ,“That is a demonstrative pronoun.”
बटूक महाराज के शब्द सुनकर नंदू की बोलती बंद हो गयी । उसने हिंमत करके बटूक महाराज से पुछा ,“ If That is a demonstrative pronoun then What is This ??” उसके कानों पर जोर की आवाज आयी “This is Batuk Maharaj’s Class ” नंदू said “बटूक महाराज की जय” to बटूक महाराज तब जाकर उसको बटूक महाराज के प्रश्नों से छुटकारा मिला । बेचारा नंदू क्लास खतम होने की wait करने लगा । उसने खिडकी के बाहर देखा – उसकी नयी साईकल उसक इंतज़ार कर रहि थी ।

Pay Anything You Like

Amruta

Avatar of amruta
$

Total Amount: $0.00