I offer my obeisance to Rev. Sri. Om Swamiji🙏🕉

A little poem from the heart🙏 It’s translated both in Hindi and English.


                
फितरत के बीज  


अजब मेला है आलीशान फितरतओं का …

रोज मंडी सजती है अरमानों की यहां ।।


हर किस्म हर नस्ल के बीज  मिलते भरपूर …

खरीदार कर्ताधर्ता है इसके भाव का यहां ।।


अफसानो जज्बातों की रेले चारों ओर…

पनपते हर  नसल के खेत खलियान यहां ।।


चादर भर भर के बड़ी शिद्दत से इन बीजों को जमा कर …

इंसान सोता है हर दिन इसकी मूरत बनाकर ।।


घर घर में इसका वास अलग है …

इसको सींचने की विधि और आकार अलग है ।।


इसकी इच्छा के बिना है हर दवार अधूरा …

इस की आराधना से ही होता है हर ज्ञान पूरा।।


भाव इसका यूं तो है सबसे ऊंचा…

पर क्या किसी ने इसको अंतर्मन से पूजा?


सुख शांति धैृय सब लुप्त से हो गए…

अब चहकती हरियाली के रंग बिन खाद ,जैसे खुशक हो गए  ।।


बिन माटी बिन पानी इसको सींचेगें  कब तक  ?…

उधार के तोलमोल में नहीं उपजता यह फल ।।


आज एक नसीहत में ही ले लूं  !….

अपनी फितरत को खुद ही बदल दुं !!


बोझ अपनी हर सांस का हल्का कर लूं …

हर लम्हें  को दुआ और खुशी से भर दुं ।।

 

Transaltion:

  The Seeds of Inner Nature   

 

Strange this carnival of extravagant natures..

Each day here is a decked market of desires….


One can buy seeds of all kinds, all breeds in plenty

The buyer determines their price here…


Laid in long tracks of tall tales and emotions

Sprouting everywhere into all kinds of crops…


Sacks of seeds are filled and collected with great passion

Crafting it like an idol does the human sleep with them everyday..


In each home the seed takes a different place

A different nurturing, a different form…


Without its desire every home is so incomplete

Only With its worship, every knowledge is complete…


Though of the most heightened sentiment

Does anyone truly and consciously meditate on it?


Happiness, peace and patience seems all kind of lost

Like the cheerful green expanses all dried sans manure ..


Without soil without water, how long can we nourish it?

With borrowed snatches it wouldn’t bear any fruits..


Today I allow to counsel myself!

let me change my own nature myself…


I unburden every breath of mine…

And fill each moment with blessing and delight.

 

Namaste and Peace🙏🕉
Siddhika Umesh

 

Pay Anything You Like

Siddhika

$

Total Amount: $0.00