Hello honourable people, First I was unaware of the poems category available or not here. But when I saw today, it is, I made my mind to publish one of my poem here. So here goes my first poem. Poem is in Hindi language, I usually writes in Hindi.

खोजना होगा तो खोज ही लूंगा

खोजना होगा तो खोज ही लूंगा,
चाहे कितनी परतों में छिपा हो,
कोई मेरा, या सबका वह।
चलना होगा तो चल ही लूंगा,
चाहे कितने ही पत्थर वजह,
बनें मेरे रक्त के बहने की।
देखना होगा तो देख ही लूंगा,
चाहे प्रकाश विलीन हो जाए कहीं,
और तम का ही हो क्षितिज।
जानना होगा तो जान ही लूंगा,
चाहे दोहराव करना पड़े जीवन का।
और मिलना होगा, तो ये भी होगा,
चाहें मिलें किसी दूसरे ब्रह्मांड में।

सभी पाठकों को पढ़ने के लिये धन्यवाद।

कृपया कविता को कहीं भी प्रकाशित करने हेतु कॉपीराइट संबंधित नियमों का पालन करें।

आपका दिन शुभ हो।

Pay Anything You Like

Amit Kumar

Avatar of amit kumar
$

Total Amount: $0.00