गुरू नित्य निर्मल है । गुरू नित्य मंगल है ।
गुरू प्रेम है । गुरू सत् चित् आनंद है ।
गुरू परम चैतन्य है । गुरू आत्मसाक्षात्कार है ।
गुरू परब्रह्म है । गुरू सत्य संकल्प है ।
गुरू मोक्ष का द्वार है । गुरू स्वयंप्रकाशित है ।
गुरू ओंकार स्वरूप है । गुरू ज्ञान है ।
गुरू मार्गदर्शक है । गुरू सर्वांतर्यामी है ।
गुरू विश्वजननी है । गुरू वाक्य वेदवाक्य है ।
गुरू ईश्वर का प्रतिबिंब है । गुरू मंत्र अद्भुत है ।
गुरू आद्य है । गुरू परम पूज्य है ।
गुरू शांती है । गुरू आनंद की अनुभूती है ।
गुरू परम तत्त्व है । गुरू वंदना नित्य निरंतर है ।
गुरु आत्म प्रचिती है । गुरू अध्यात्मिक वैभव है ।
गुरू करूणा के सागर है । गुरू क्षमाशील है ।
गुरू सत्वगुण युक्त है । गुरू सुख दुख से परे है ।
गुरू परमार्थ की प्राप्ती है । गुरू ध्यान कि समाधी है ।
गुरू मंत्र की सिध्दि है । गुरू अध्यात्म की प्रचिती है ।
गुरू सगुण साकार है । गुरू निर्गुण निराकार है ।
गुरू नाम जीवन रक्षक है । गुरू सेवा जीवन उध्दारक है ।
गुरू चरण पतित पावन है । गुरू भक्ती ईश्वर उपासना है ।
गुरू मार्ग आत्म कल्याणकारी है । गुरू ध्यान है ।
गुरू अध्यात्म का स्त्रोत है । गुरू शिष्य का सर्वस्व है ।
गुरू आश्रय ममता का आंचल है । गुरू भवभयहारक है ।
गुरू स्तुती अवर्णनीय है । गुरू आज्ञा वंदनीय है ।
गुरू संत की व्याख्या है । गुरू कैवल्य आनंद है ।
गुरू स्पर्श परीस स्पर्श है । गुरू आशिष प्रेमप्रसाद है ।
गुरू चरणामृत गंगाजल है । गुरू आश्रम स्वर्ग समान है ।
गुरू वचन अनमोल है । गुरू दर्शन पुण्यप्रद है ।
गुरू कार्य विश्व हितकारक है । गुरू चिंतन प्रभू चिंतन है ।
गुरू प्राप्ती सर्व प्राप्ती है । गुरू भाव निर्विकार है ।
गुरू समर्पण आत्मसमर्पण है । गुरू श्रध्दा का स्थान है ।
गुरू लीला अपरंपार है । गुरू सब का आधार है ।
गुरू अवतार ईश्वर अंश है । गुरू धर्म का रक्षक है ।
गुरू गुण अकल्पित है । गुरू चरीत्र अंतर मन की शुध्दि है ।
गुरू वाणी अमृतवाणी है । गुरू महिमा अगाध है ।

गुरू बिन नहिं दुजा कोई भेद ।
गुरू बिन नहिं दुजा कोई बोध ।
गुरू बिन नहिं दुजा कोई शोध ।

🙏🙏 ।। श्री गुरू शरणम् ।। 🙏🙏

Pay Anything You Like

Amruta

Avatar of amruta
$

Total Amount: $0.00