गोंद की पंजीरी—–

1. आधा कटोरी बादाम को मिक्सी में पीस लें( बिना पानी के)।2. आधा कटोरी खाने वाले गोंद को धीमी आंच पर घी में  तल लें।

3.  एक कटोरी खरबूजे के बीज को भी धीमी आंच पर (बिना घी के दो-तीन मिनट) भूने।

4. गैस बंद करके दो कटोरी  नारियल के बुरादे को भी एक-दो मिनट गर्म कढ़ाई में भूने ( नारियल के बुरादे का रंग ना बदले )।

5. एक कढ़ाई में दो कटोरी चीनी व दो कटोरी पानी से दो तार की चाशनी बना लें।

6. चाशनी बनने पर सब सामग्री को डालकर (आँच को धीमा कर लें ) शीघ्रता से मिलाएं।

7. गैस बंद करके पंजीरी के मिश्रण को  (7-8 बार)  लगातार चलाने से चीनी सूखने लगेगी।

8. घी से चिकनी की हुई थाली में पंजीरी के मिश्रण को फैलाकर समतल कर ले।

9. कटे हुए पिस्ता व बादाम डालकर हल्का सा दबा दें ।

10. पाँच  मिनट बाद पंजीरी पर चाकू से निशान बना ले। क्योंकि जमने पर पंजीरी के टुकड़े काटना कठिन होगा।

यह पंजीरी मेरी मम्मी जन्माष्टमी पर अवश्य बनाती है। परंतु वह नारियल को कद्दूकस करके डालती है । 

आज प्रथम नवरात्रि पर माँ  शैलपुत्री को गोंद की पंजीरी का भोग लगाएं और प्रसाद पायें ।

।।जय श्री हरि।।🙏🙏