तुझे स्तवन मी करता करेना
वासना माझ्या मिटता मिटेना
नशिबाचे भोग संपता संपेना
प्रारब्धाचा भार शमता शमेना
तुजविण स्वामी मज कोण तारी ?

🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

सत्कर्म मला जमता जमेना
दुष्कर्म माझे थांबता थांबेना
सद्भाग्य माझे खुलता खुलेना
दुर्भाग्य माझे टळता टळेना
तुजविण स्वामी मज कोण तारी ?

🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

भवदुःख माझे सरता सरेना
मुक्तीचा मार्ग दिसता दिसेना
तुझे नाम मुखी वदता वदेना
संचिताचा घडा भरता भरेना
तुजविण स्वामी मज कोण तारी ?

🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

पुण्यफळ माझे फळता फळेना
जन्म मृत्युचे चक्र चुकता चुकेना
वेदनांचा वणवा विझता विझेना
पापाचे गाठोडे जळता जळेना
तुजविण स्वामी मज कोण तारी ?

🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

सद्गुणांची साथ मिळता मिळेना
दुर्गुण माझे बाहेर पडता पडेना
तुझ्या कार्यी चित्त गुंतता गुंतेना
मोह मायेच्या गाठि सुटता सुटेना
तुजविण स्वामी मज कोण तारी ?

🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

संसाराचे ओझे ढळता ढळेना
तुझ्या चिंतनी मनं रमता रमेना
कर्म बंधने माझी तुटता तुटेना
अहंकार माझा झुकता झुकेना
तुजविण स्वामी मज कोण तारी ?

🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

सज्जनांशी संग जुळता जुळेना
दुर्जनांचा ओढा निघता निघेना
तुझे स्मरण मला स्मरता स्मरेना 
तुझ्या भक्तीची कास धरता धरेना
तुजविण स्वामी मज कोण तारी ?

🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

तुझ्या चरणांची सेवा घडता घडेना
पुण्याची शिदोरी मज पुरता पुरेना
तुझ्या नामस्मरणात घुलता घुलेना
परोपकाराचे भाग्य लाभता लाभेना
तुजविण स्वामी मज कोण तारी ?

******************************************

हिंदी भाषांतर

तुझे स्तवन मी करता करेना
वासना माझ्या मिटता मिटेना
नशिबाचे भोग संपता संपेना
प्रारब्धाचा भार शमता शमेना
तुजविण स्वामी मज कोण तारी ?

मुझसे आपका स्तवन हो नहिं रहा ।
मेरी ईच्छा – वासनाएं मिट नहीं रहि ।
भाग्य के भोग समाप्त नहीं हो रहे ।
प्रारब्ध का भार कम नहीं हो रहा ।
स्वामी आप के बिना मुझे कौन सहारा है ?

🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

सत्कर्म मला जमता जमेना
दुष्कर्म माझे थांबता थांबेना
सद्भाग्य माझे खुलता खुलेना
दुर्भाग्य माझे टळता टळेना
तुजविण स्वामी मज कोण तारी ?

सत्कर्म मुझसे हो नहिं रहे ।
दुष्कर्म मुझसे रूक नहिं रहे ।
सद्भाग्य मेरे खुल नहिं रहे ।
दुर्भाग्य मेरे टल नहिं रहे ।
स्वामी आप के बिना मुझे कौन सहारा है ?

🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

भवदुःख माझे सरता सरेना
मुक्तीचा मार्ग दिसता दिसेना
तुझे नाम मुखी वदता वदेना
संचिताचा घडा भरता भरेना
तुजविण स्वामी मज कोण तारी ?

भवदु:ख मेरे समाप्त नहिं हो रहे ।
मुक्ती का मार्ग मुझे दिख नहिं रहा ।
आप का नाम मुख में आ नहिं रहा ।
संचित कर्मों का घड़ा मेरा भर नहिं रहा ।
स्वामी आप के बिना मुझे कौन सहारा है ?

🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

पुण्यफळ माझे फळता फळेना
जन्म मृत्युचे चक्र चुकता चुकेना
वेदनांचा वणवा विझता विझेना
पापाचे गाठोडे जळता जळेना
तुजविण स्वामी मज कोण तारी ?

पुण्यफल मेरे फलित नहिं हो रहे ।
जन्म मृत्यु का चक्र कट नहिं रहा ।
मेरी वेदनाओं का अंत नहिं हो रहा ।
पाप का बोझा मेरा भस्म नहिं हो रहा ।
स्वामी आप के बिना मुझे कौन सहारा है ?

🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

सद्गुणांची साथ मिळता मिळेना
दुर्गुण माझे बाहेर पडता पडेना
तुझ्या कार्यी चित्त गुंतता गुंतेना
मोह मायेच्या गाठि सुटता सुटेना
तुजविण स्वामी मज कोण तारी ?

सद्गुणों की साथ मुझे मिल नहिं रहि ।
दुर्गुणों के मेरे नाश नहिं हो रहा ।
आपके कार्य में मेरा ध्यान नहिं लग रहा ।
मोह माया का बंधन छूट नहिं रहा ।
स्वामी आप के बिना मुझे कौन सहारा है ?

🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

संसाराचे ओझे ढळता ढळेना
तुझ्या चिंतनी मनं रमता रमेना
कर्म बंधने माझी तुटता तुटेना
अहंकार माझा झुकता झुकेना
तुजविण स्वामी मज कोण तारी ?

संसार के प्रति मेरा आकर्षण कम नहिं हो रहा ।
आपके चिंतन में मेरा मन एकाग्र नहिं हो रहा ।
कर्मों के बंधन मेरे विलप्त नहिं हो रहे ।
मेरा अहंकार झुक नहिं रहा ।
स्वामी आप के बिना मुझे कौन सहारा है ?

🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

सज्जनांशी संग जुळता जुळेना
दुर्जनांचा ओढा निघता निघेना
तुझे स्मरण मला स्मरता स्मरेना 
तुझ्या भक्तीची कास धरता धरेना
तुजविण स्वामी मज कोण तारी ?

सज्जनों के संग मेरा मन नहिं लग रहा ।
दुर्जनों के प्रति मेरा लगाव कम नहिं हो रहा ।
आपका स्मरण मुझे हो नहिं रहा ।
आपके भक्ती कि कास मुझे लग नहिं रहि ।
स्वामी आप के बिना मुझे कौन सहारा है ?

🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

तुझ्या चरणांची सेवा घडता घडेना
पुण्याची शिदोरी मज पुरता पुरेना
तुझ्या नामस्मरणात घुलता घुलेना
परोपकाराचे भाग्य लाभता लाभेना
तुजविण स्वामी मज कोण तारी ?

आपके चरणों की सेवा मुझसे हो नहिं रहि ।
पुण्य कि शिदोरी मेरी अपुरी पड रहि है ।
आपके नामस्मरण में मेरा चित्त लग नहिं रहा ।
परोपकार का भाग्य मुझे मिल नहिं रहा ।
स्वामी आप के बिना मुझे कौन सहारा है ?

 All glories to you my lord 🙇🙇🙇🙇🙇

Pay Anything You Like

Amruta

Avatar of amruta
$

Total Amount: $0.00