Pranam to my Dear Friends 🙏❤️

Well I know my post will not consider now for write choice due to end of timeline . I just want to express my thoughts what I feel after seeing picture of Elephant sitting on tree .

पेड पर बैठा हाथी क्या सोच रहा है ?

मुझे लगता है , जंगल में चारो ओर आग लग गयी है । जैसे आमतौर पर जंगल में वणवा लगता है । जब ऐसी दुर्घटना घटित होती है , तो सभी प्राणी अपनी जान बचाने के लिए इधर उधर भागते है । इस हाथी के साथ भी ऐसा हि हुआ है । इसके कई सारे दोस्त थे । इसके भी अपने घरवाले थे । किंतु आग की वजह से अभी सारे एक दुसरे से बिछड गए है । ज्योंकी आग अब शांत हो चुकी है , यह हाथी सुखे पेड पर बैठे जंगल की दशा देख रहा है और मन में सोच रहा है , क्या यहि मेरा जंगल है ? जो पहले इतना सुंदर था । इतना हराभरा था । हम दोस्त मिलकर यहां कितना खेलते थे । मेरी मां मुझे प्यार से इसी पेड की छांव में बिठाती थी । क्या यहि वो सुखी नदि है , जो एक समय पानी से बहती थी और हम खूब इसमें डूबकी लगाते थे । ऐसे असंख्य विचार इस हाथी के मन में आ रहे हैं और उसका मन भूतकाल की सुखद यादो में खो गया है । पुरानी बातों को सोचता और आसपास का परीसर निहारता यह हाथी अकेला हि पेड की टहली पर बैठा हुआ है । किंतु हाथी क्या कभी जान पाएगा , यह सारा विध्वंस मानव प्राणी के कारण हुआ है जिसे वो अपना सबसे प्रिय मित्र मानता है !

हमारे जीवन में भी कभी कभी ऐसे क्षण आते हैं , जब हमारा मन भूतकाल की यादो में खो जाता है । हम अपने मित्रों को , परीवार जनों को , प्रिय जनों को याद करते हैं । कदाचित उनकी कोई तस्वीर सामने आ जाए या फिर कोई ऐसी घटना घटित हो , जो हमें उनकी याद दिलाती हो । मैं उन क्षणों की तुलना इस हाथी की मानसिकता से करती हूं । हम भी अकेले शांत जगह पर बैठे अपनों की यादों में खो जाते हैं । जो शायद अब इस दुनिया में ना हो ।

प्रेम और शांती 🌷

Pay Anything You Like

Amruta

Avatar of amruta
$

Total Amount: $0.00