Ashu Singh's Writings

मनुष्य की क्षमता और…

नियंता की नियति

Avatar of ashu harivanshi
हिन्दी की उपेक्षा क्यों

क्या हिन्दी भाषी पिछड़े हैं

Avatar of ashu harivanshi
वो दशहरे के आखिरी समय का नजारा

क्या उपासना का स्वरूप ऐसा भी होता है

Avatar of ashu harivanshi
वो अजनबी जिसने मुझे लिफ्ट दी

कोई है जो हमारे अंतर्मन को पढ़ता है

Avatar of ashu harivanshi
प्रकृति का अनुपम सौंदर्य

मेरे खास अनुभव और विचार

Avatar of ashu harivanshi
आश्रम का सच

भ्रांतियां और सत्यता

Avatar of ashu harivanshi
क्या यही प्रेम है या सिर्फ लेन...

बहुत अंतर है वासना और प्रेम में

Avatar of ashu harivanshi
बाबा लोग तो ऐसे ही होते हैं….

मेरा तो धर्म से विश्वास ही उठ गया है

Avatar of ashu harivanshi
वो विदेशी लड़की जो हर रोज ये...

कोई तीसरी आंख है जो हमें हर पल देख रही है

Avatar of ashu harivanshi
वो जो को मुझे एक मिनट के...

जेहन मे उसकी याद आई तो सोचा लिख डालूं

Avatar of ashu harivanshi
मेरे से जब पूछा गया किसके फैन...

क्या हम जिनके फैन हैं वो हमें जानते भी हैं

Avatar of ashu harivanshi
क्या यही महिला सशक्तिकरण है,…..

अगर ये महिला सशक्तिकरण है तो सनातन धर्म की ध्वजा झुकने ही वाली है...

Avatar of ashu harivanshi