पूजा में प्रेम

पूजा में मंत्रों से अधिक, आराध्य के लिये प्रेम होना चाहिए !

Avatar of sadhvi shraddha om

आज्ञा और सेवा

गुरु की आज्ञा और सेवा परम सौभाग्य से प्राप्त होती है — तांडव ऋंखला...

Avatar of sadhvi shraddha om

“मैं हुँ ना!”

"चिंता मत करो, मैं हुँ ना।" गुरु के यह दिव्य शब्द बड़ी से बड़ी...

Avatar of sadhvi shraddha om

चिंता

समस्या के समय चिंता ना करके, उसके समाधान पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए— तांडव...

Avatar of sadhvi shraddha om

भक्ति का रंग

कैसा भी हो, चढ़ता ही है--तांडव ऋंखला का २०वाँ प्रकरण

Avatar of sadhvi shraddha om

इच्छायें

प्रसन्नता और समृद्धि में इच्छाओं की सीमा समाप्त हो जाती है--तांडव ऋंखला का २७वाँ...

Avatar of sadhvi shraddha om

मनोदशा

हमारी हर स्तिथि, हमारी मनोदशा पर निर्भर करती है--तांडव ऋंखला का २८वाँ प्रकरण

Avatar of sadhvi shraddha om

आसक्ति

आसक्ति का आरम्भ क्षणिक आनंद से होता है--तांडव ऋंखला का २६वाँ प्रकरण

Avatar of sadhvi shraddha om

परिवर्तन

परिवर्तन, जीवन का एक स्थिर सत्य है--तांडव ऋंखला का २५वाँ प्रकरण

Avatar of sadhvi shraddha om

माया

माया चक्र में फँस कर मनुष्य की बुद्धि, वास्तविकता देख नहीं पाती--तांडव ऋंखला का...

Avatar of sadhvi shraddha om

आतिथ्य

किसी अपरिचित को आतिथ्य प्रदान करना मानवता का एक विशिष्ट गुण होता हैं- तांडव...

Avatar of sadhvi shraddha om

द्वन्द

मानसिक तनाव कभी शांति से सोचने की अनुमति नहीं देता— तांडव ऋंखला का ३०वाँ...

Avatar of sadhvi shraddha om

वरदान

कभी कभी ईश्वर भी बिना तपस्या के वरदान देते है--तांडव ऋंखला का १७वाँ प्रकरण

Avatar of sadhvi shraddha om

अस्तित्व

चित्त और आत्मा का तर्क-वितर्क केवल अस्तित्व को लेकर होता है— तांडव ऋंखला का...

Avatar of sadhvi shraddha om

प्रशंसा

स्तुति और प्रशंसा अगर सच्ची हो तो विनम्रता बढ़ती है, नही तो केवल अहंकार...

Avatar of sadhvi shraddha om

The community is here to help you with your spiritual discovery & progress. Be kind & truthful! Some quick tips:

Author Name

Author Email

Your question *